जब दिलीप कुमार ने धर्मेंद्र को चोर समझकर घर से भगाया

0
901
बॉलीवुड में जितने भी बड़े एक्टर हैं उनमें से अधिकाँश स्वीकार करते हैं कि वो दिलीप कुमार की inspiration के कारण ही फिल्मों में आए. अभिनेता धर्मेंद्र भी उनमें से एक हैं. धर्मेंद्र पर तो दिलीप कुमार का भूत कुछ ज्यादा ही चढ़ा हुआ था. फिल्मों में आने से पहले 1952 में धर्मेंद्र ने दिलीप कुमार की फिल्म ‘शहीद’ देखी और उनसे इतने प्रभावित हुए की उनसे मिलने सीधे मुंबई पहुँच गए और चोर की तरह उनके घर में जा घुसे.

धर्मेंद्र तब फिल्मों में नहीं आए थे. पंजाब में रेलवे की नौकरी के दौरान ही उन्हें दिलीप कुमार की फ़िल्में देखने का चस्का लग गया. ‘शहीद’ देखने के बाद धर्मेंद्र खुद को रोक नहीं पाए और घरवालों को बिना बताए दिलीप कुमार से मिलने मुंबई पहुँच गए. धर्मेंद्र को दिलीप कुमार पाली हिल स्थित बंगले के बारे में पता था. स्टेशन से वो सीधे पाली हिल पहुँच गए. दिलीप कुमार के बंगले पर उस समय कोई दरबान नहीं था इसलिए किसी ने उन्हें रोका नहीं. धर्मेंद्र सीधे बंगले में घुस आए. फिर वो सीढ़ियों पर चढ़कर सीधे दिलीप कुमार के बेडरूम में जा घुसे. दिलीप कुमार उस समय सो रहे थे. जैसे ही उन्होंने किसी की आहट सुनी वो जग गए और अपने सामने यंगमैन को देखकर अवाक रह गए. इससे पहले की धर्मेंद्र कुछ बोल पाते दिलीप साहब ने अपने नौकरों को आवाज लगानी शुरू कर दी जिससे डर कर धर्मेंद्र वहां से भाग निकले और नजदीक के एक रेस्टोरेंट में घुस गए. इस तरह धर्मेंद्र की पहली मुलाक़ात दिलीप कुमार से हुई. सालों बाद जब फिल्मों में आने के बाद धर्मेंद्र और दिलीप कुमार का आमना-सामना हुआ तो दिलीप साहब उन्हें देख मुस्कुराने लगे. तब धर्मेंद्र ने उनसे उस वाकये के लिए माफी मांगी जिसके जवाब में दिलीप साहब ने उन्हें गले लगा लिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here