आखिर क्यों टूटी राज कपूर और प्राण की दोस्ती

0
185
फिल्म इंडस्ट्री में एक समय राज कपूर और प्राण की दोस्ती की मिसालें दी जाती थी. दोनों पाकिस्तान के पेशावर से ताल्लुक रखते थे और दोनों के बीच अच्छी बौन्डिंग भी थी. प्राण ने राज कपूर की ‘आह’ और ‘जिस देश में गंगा बहती है’ जैसी फिल्मों में अहम् रोल निभाया था. लेकिन फिल्म ‘बॉबी’ के निर्माण के दौरान एक ऐसी घटना घटी कि ना केवल दोनों की दोस्ती हमेशा के लिए ख़त्म हो गयी बल्कि फिर कभी दोनों ने एक साथ काम नहीं किया.

‘मेरा नाम जोकर’ के भारी भरकम घाटे से उबरने के लिए राज कपूर ने ऋषि कपूर को लेकर फिल्म ‘बॉबी ‘ का निर्माण शुरू किया. ऋषि कपूर नए थे इसलिए राज साहब को ये फिल्म कारोबारी नजरिए से थोड़ी जोखिम भरी लगी इसलिए उन्होंने प्राण से गुजारिश की कि वो इस फिल्म में काम करें ताकि उनकी लोकप्रियता का फिल्म को फायदा हो. प्राण ने अपने दोस्त की मदद करने के लिए इस फिल्म में एक रूपए के मेहनताने पर काम करना मंजूर कर लिया साथ ही ये शर्त भी रखी कि अगर बॉबी हिट हो जाती है तो राज साहब उन्हें उनकी मार्किट प्राइस के हिसाब से मेहनताना देंगे. राज साहब ने इसे मंजूर कर लिया .

रिलीज होते ही ‘बॉबी’ जबरदस्त हिट रही लेकिन राज साहब, प्राण से किया हुआ वादा भूल गए .प्राण ने तो राज साहब से खुद कभी कुछ नहीं कहा लेकिन उनका सेक्रेटरी राज कपूर के पीछे पड़ गया और प्राण साहब के पैसों की मांग करने लगा. बार-बार के तगादे से राज साहब चिढ गए और एक लाख का चेक उन्हें थमा दिया .नाराज सेक्रेटरी ने उस चेक को वहीं फाड़ दिया और उन्हें याद दिलाया कि प्राण साहब ऋषि कपूर जैसे न्यूकमर नहीं हैं बल्कि उनकी प्राइस लाखों में है. सेक्रेटरी की बदतमीजी से नाराज राज साहब प्राण के घर जा पहुंचे और उनसे इसकी शिकायत की .लेकिन प्राण ने उलटे सेक्रेटरी का बचाव करते हुए राज साहब पर वादाखिलाफी का आरोप लगा दिया .जिससे वो बुरी तरह चिढ गए. इस घटना ने ना केवल दोनों की बीस साल की दोस्ती को दुश्मनी में बदल दिया बल्कि फिर कभी दोनों ने कभी एक साथ काम ना करने की कसम खा ली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here