जब श्रीदेवी की संपत्ति हड़पने के लिए बहनों ने उन्हें कोर्ट में घसीटा

0
139
कहते हैं कभी-कभी कामयाबी अपने अपनों के लिए ही मुसीबत बन जाती है. श्रीदेवी जब तक तमिल, तेलगू फिल्मों में काम करती रही उनका पूरा परिवार उनके पीछे एकजुट रहा और उनके करियर को संवारने में अपने-अपने तरीके से कोशिश की. लेकिन जैसे ही श्रीदेवी हिंदी फिल्मों में तरक्की की सीढियां चढ़ने लगी उनका परिवार उनसे दूर होता चला गया. केवल श्रीदेवी की मां ही थी जो उनके पीछे मजबूत सहारे की तरह खड़ी रही. लेकिन मां की मौत के बाद हालात ऐसे हो गए कि श्रीदेवी की संपत्ति में हिस्सा लेने के लिए उनके परिवार ने उन्हें कोर्ट में घसीट लिया.

साल 1991 में श्रीदेवी की मां को ब्रेन कैंसर होने का पता चला. उन्हें इलाज के लिए न्युओर्क ले जाया गया. उनके सर के बाएं हिस्से में ट्यूमर था, लेकिन डॉक्टरों ने गलती से दाएं हिस्से का ऑपरेशन कर दिया. ये गलती भारी पड़ी और उनकी मौत हो गई. श्रीदेवी का सारा हिसाब किताब उनकी मां ही देखती थी. इसलिए उनके परिवार ने श्रीदेवी की संपत्ति को मां की संपत्ति बताते हुए उसपर अपना दावा ठोंक दिया. इसी बीच श्रीदेवी ने कैंसर अस्पताल पर मुकदमा ठोंका जिसे मुवावजे के रूप में उन्हें साढ़े सात करोड़ मिले.

श्रीदेवी का कहना था कि मां के इलाज का सारा खर्च उन्होंने उठाया है, इसलिए मुवावजे पर भी केवल उनका अधिकार है. लेकिन उनकी बहनों ने मामला कोर्ट में घसीट लिया. कोर्ट का फैसला श्रीदेवी के पक्ष में आते ही परिवार में कटुता बढ़ गयी. बाद में बोनी कपूर ने बीच बचाव करते हुए 2 करोड़ उनके परिवार को देकर मामला ख़त्म करवा दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here