Dharmendra (Part-2) : इस तरह पहली बार हुआ दिलीप कुमार से धर्मेंद्र का सामना

0
480
दोस्तों ! पिछली स्टोरी में हमने आपको बताया था कि धर्मेंद्र पहली बार भले ही अपने आइडल दिलीप कुमार से मिलने में असफल रहे, लेकिन इससे उनके अंदर हीरो बनने का भूत जरूर सवार हो गया. कहावत है सपने जब तबीयत से देखें जाएं तो जरूर पूरे होते हैं. धर्मेंद्र की इसी चाहत ने उन्हें हीरो भी बनाया और दिलीप कुमार से भी मिलाया. आइये जानते हैं धर्मेंद्र की मुलाक़ात दिलीप कुमार से कैसे हुई ?

उन दिनों टाइम्स ग्रुप की मैगजीन फिल्फेयर पूरे देश से नयी प्रतिभाओं को जुटाने का काम करती थी. इसी मैगजीन ने नई प्रतिभाओं के लिए एक टैलेंट हंट का आयोजन किया था. धर्मेंद्र ने भी इस मैगजीन के लिए अपनी फोटो भेज दी और उनका चयन भी हो गया. धर्मेंद्र को स्क्रीन टेस्ट के लिए मुंबई बुलाया गया. मुंबई आने के बाद उन्हें दूसरे प्रतियोगियों के साथ होटल में ठहराया गया. सुबह उन सबको एक बस में भरकर फिल्मसिटी ले जाया जा रहा था  इसी बस में उनकी मुलाक़ात एक ऐसे शख्स से हुई जो आगे चलकर उनकी जिंदगी बदलने वाला था. ये शख्स थे अर्जुन हिंगोरानी.. धर्मेंद्र और अर्जुन हिंगोरानी की जुगलबंदी की कहानी आपको हम इस कड़ी के तीसरे भाग में बताएंगे. बहरहाल…

फिल्मसिटी ले जाकर सबको स्क्रीन टेस्ट के लिए तैयार होने के लिए मेकअप रूम में भेज दिया गया. इन सभी प्रतियोगियों के मेकअप की जिम्मेदारी जुबैदा को दी गयी थी, जो दिलीप कुमार की बहन थी. बातों ही बातों में धर्मेंद्र को ये पता चल गया और उन्होंने जुबैदा के सामने दिलीप कुमार से मिलने की ख्वाहिश जाहिर की. जुबैदा ने धर्मेंद्र का ये जूनून देखा तो वो उन्हें दिलीप कुमार से मिलाने के लिए तैयार हो गई और एक दिन धर्मेंद्र को लेकर दिलीप कुमार के बंगले पर पहुंची. ये वही बंगला था जिसमें धर्मेंद्र पहली बार चोरी-छिपे घुस चुके थे. जब दिलीप कुमार और धर्मेंद्र का आमना-सामना हुआ तो दोनों एक-दूसरे को देखकर मुस्कुराने लगे. धर्मेंद्र ठंड से कांप रहे थे. दिलीप कुमार ने उन्हें अपनी जैकेट उतार कर पहना दी. ये जैकेट आज भी धर्मेंद्र के पास सुरक्षित है.

दोस्तों ! इस तरह धर्मेंद्र अपने आइडल दिलीप कुमार से मिलने में सफल रहे और उनका पहला सपना पूरा हुआ. लेकिन एक्टर बनने के अपने दूसरे सपने को पूरा करने के लिए उन्हें काफी पापड बेलने पड़े. आखिरकार वही शख्स काम आया जो उनके साथ खुद एक प्रतियोगी था यानी अर्जुन हिंगोरानी. हिंगोरानी ने धर्मेंद्र के सपनों को कैसे परवान चढ़ाया. ये हम आपको बताएंगे अगली स्टोरी में…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here