शाहरुख खान की ना ने बदल दी संजय दत्त की तकदीर

0
142
मुन्नाभाई MBBS संजय दत्त की ऐसी फिल्म थी, जिसने उनके करियर को ऐसा मोड़ दिया जिसकी उम्मीद उन्होंने कभी नहीं की थी. मुन्नाभाई ने संजय दत्त को वही मुकाम पर लाकर खड़ा कर दिया था, जिसका दत्त परिवार को बेसब्री से इंतजार था. यह एक ऐसा ऐसा किरदार था, जो मानो सिर्फ संजय दत्त को ही ध्यान में रखकर बनाया गया हो. लेकिन बता दें अगर उस समय शाहरुख खान इस फिल्म के लिए राजी हो जाते तो शायद संजय दत्त कभी MBBS नहीं बन पाते.

जी हां, इस रोल के लिए राजकुमार हिरानी की पहली पसंद शाहरुख खान थे. राज कुमार हिरानी के साथ विधू विनोद चोपड़ा ने भी शाहरुख को समझाने की लाख कोशिश की, मगर शाहरुख नहीं माने, एक टपोरी के लिए के लिए शाहरुख तैयार ही नहीं थे. कंधों में चोट का बहाना बनाकर शाहरूख ने इस किरदार को करने से इंकार कर दिया. उसके बाद हिरानी ने विवेक ओबरॉय से बात की, लेकिन ऐसा टपोरी का किरदार उनको भी नहीं भाया और विवेक ओबोरॉय ने भी इस किरदार को करने से इनकार कर दिया.

वैसे शाहरुख के पास इनकार की वजह थी. एक तो ये कि, उस वक्त शाहरुख एक ब्रैंड बन चुके थे और टपोरी के रोल से उस ब्रेैंड इमेज को नुकसान पहुंच सकता था दूसरी सबसे अहम वजह ये थी कि, शाहरुख ने अपने करिअर की शुरूआत में रामजाने फिल्म में एक टपोरी का रोल अदा किया था जिसपर शाहरुख को आज भी अफसोस है. रामजाने बुरी तरह से फ्लॉप हुई थी. लिहाजा शाहरुख दोबारा टपोरी का रोल नहीं करना चाह रहे थे.

बता दें कि मुन्नाभाई में जहिर के किरदार के लिए पहले संजय दत्त को फाइनल किया गया था. हालांकि यह संजय दत्त के करियर के लिए ज़रूरी था इसलिए उन्होंने इस किरदार के लिए चुपचाप हामी भर दी थी. जबकि बाद में जिमी शेरगिल ने इस किरदार को निभाया. लेकिन शाहरुख़ के इनकार के बाद निर्देशक ने दोनों किरदारों को बदल दिया. शाहरुख़ की जगह संजय दत्त को बनाया गया मुन्ना भाई और जिमी शेरगिल बने जहिर… दोनों के लिए ही उनका किरदार माइल्ड स्टोन साबित हुआ…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here