Dharmendra (Part-5) : जब सहगल ने धर्मेंद्र को शर्टलेस होने को किया मजबूर

0
147
1960 तक धर्मेंद्र ने कई फिल्मों में काम किया. उन्हें फ़िल्में मिल तो रही थी, लेकिन कोई उन्हें हीरो मानने को तैयार नहीं था. उन्हें केवल सपोर्टिंग रोल्स ऑफर किये जाते थे, जिससे वो काफी नाखुश रहते थे. साल 1961 में एक पार्टी के दौरान निर्माता-निर्देशक रमेश सहगल की नजर धर्मेंद्र के गठीले शरीर और कद-काठी पर पड़ी और उन्होंने अपनी फिल्म ‘शोला और शबनम’ में उन्हें सोलो हीरो के रूप में लांच करने का मन बनाया.

‘शोला और शबनम’ पूरी तरह धर्मेंद्र के लिए बनाई गई फिल्म थी और सहगल धर्मेंद्र की सारी खूबियों को परदे पर लाने पर आमदा थे. सहगल जानते थे कि धर्मेंद्र में एक्टिंग की संभावनाएं सीमित है, इसलिए उन्होंने फिल्म को लाइमलाईट में लाने का एक नायब तरीका ढूंढा. एक दिन उन्होंने धर्मेंद्र से कहा कि रोमांटिक सीन में उन्हें अपनी शर्ट उतारनी पड़ेगी. धर्मेंद्र के लिए ये किसी shocked से कम नहीं था. उन्होंने इससे साफ़ इंकार कर दिया.

लेकिन रमेश सहगल के सामने धर्मेंद्र की एक ना चली और उन्हें उनकी बात माननी पड़ी. आगे चलकर धर्मेंद्र का यही कसरती बदन फिल्म की में यूएसपी बन गया. फिल्म जबरदस्त हिट रही और धर्मेंद्र भी सोलो हीरो के रूप में स्थापित हो गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here