जब फिल्म बॉबी के फाइनेंस के लिए डॉन हाजी मस्तान के चौखट पर पहुंचें राज कपूर ! bollywood aajkal

0
366

मुंबई के अंडरवर्ल्ड डॉन की बॉलीवुड में दिलचस्पी काफी पुरानी रही है .ये अलग बात है बॉलीवुड में उन्हें 90 के दशक से पहले कभी तवज्जो नहीं दी गयी. दाउद की फिल्मों में दिलचस्पी लेने से काफी पहले  हाजी मस्तान ने बॉलीवुड पर काफी दबदबा कायम किया था. उसके रुतबे का आलम ये था कि मेरा नाम जोकर की नाकामयाबी के बाद राज कपूर जैसे बड़े फिल्ममेकर भी मस्तान की चौखट पर हाजिरी लगाया करते थे. 

हाजी मस्तान मुंबई की गलियों से उठकर डॉन की कुर्सी तक पहुंचा था. बचपन में फिल्मों को लेकर उनकी दिलचस्पी इतनी ज्यादा थी कि वो टिकट के पैसे जुटाने के लिए क्राइम करने से भी बाज नहीं आता था .जैसे ही उसने मुंबई शहर पर अपना दबदबा कायम किया उसने फिल्म जगत में भी दिलचस्पी लेनी शुरू कर दी .कहा जाता है मस्तान अपनी पत्नी सोना जो मधुबाला की कॉपी दिखती थी को हीरोइन बनाने के लिए तगड़ी रकम खर्च कर रहा था .इसके बावजूद सोना फिल्मों में कोई ख़ास जगह नहीं बना पा रही थी .

इसके बाद मस्तान ने बड़े फिल्ममेकर्स का रूख किया ताकि सोना को बड़े पैमाने पर लांच किया जा सके .इन्हीं  दिनों राज कपूर की फिल्म मेरा नाम जोकर रिलीज हुई थी और बड़ी फ्लॉप साबित हुई थी. इस फिल्म की नाक्मायाबी ने राज कपूर को बड़े आर्थिक घाटे में डाल दिया और नौबत आर के स्टूडियो बेचने तक की आ पडी .जैसे ही हाजी मस्तान को राज कपूर के इस हालात के बारे में पता चला उन्होंने राज कपूर के सामने आर्थिक मदद की पेशकश करते हुए सोना को लेकर फिल्म बनाने की शर्त रख दी .

 कुछ लोगों का ये भी कहना है कि राज कपूर इस घाटे से उबरने के लिए ‘boby’ के निर्माण की योजना बना रहे थे लेकिन कोई भी फायनेंसर राज कपूर की इस फिल्म में पैसा लगाने को तैयार नहीं था .जब उन्हें मस्तान के बारे में पता चला तो वो खुद ही मस्तान के पास पहुंचे थे लेकिन मस्तान की शर्त और कानून के भय ने उन्हें अपने हाथ खींचने को मजबूर किया. सचाई जो भी रही हो लेकिन इस खबर के कारण राज कपूर की काफी किरकिरी हुई थी और उन्हें माफी भी मांगनी पडी थी . ये अब तक साफ़ नहीं है कि बॉबी में मस्तान का पैसा लगा था या नहीं .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here