जब पहली बीवी ने हेमा से शादी के लिए धर्मेंद्र के सामने रखी थी ये शर्त

0
253
अभिनेता धर्मेंद्र और हेमा मालिनी की शादी हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की सबसे दिलचस्प घटनाओं में से एक है. इस कहानी की कई परतें हैं जो आज भी किसी रहस्य से कम नहीं. इस कहानी की सबसे प्रमुख किरदार यानि धर्मेंद्र की पहली बीबी प्रकाश कौर आखिर अपने पति की दूसरी शादी के लिए राजी कैसे हुई ये जानना वाकई दिलचस्प होगा… जब धर्मेंद्र ने हेमा से शादी का फैसला कर ही लिया, तब धर्मेंद्र का पूरा परिवार भी इसमें शामिल हो गया और उन सभी ने मिलकर प्रकाश कौर को मनाया. लेकिन प्रकाश कौर ने इस शादी के लिए कुछ शर्तें रखीं थी जिसे मानने के बाद ही धर्मेंद्र हेमा से शादी कर पाए, आइये जानते हैं क्या थी वो शर्तें…??

हेमा मालिनी और धर्मेंद्र के रोमांस की ख़बरों से प्रकाश कौर वाकिफ थी, लेकिन उन्होंने इन ख़बरों को इसलिए ज्यादा तवज्जो नहीं दी क्योंकि वो धर्मेंद्र को लेकर अक्सर ऐसी ख़बरें सुनती ही रहती थी. लेकिन जब धर्मेंद्र ने हेमा से शादी का ऐलान कर दिया तब जाकर प्रकाश कौर को मामले की गंभीरता का एहसास हुआ. जाहिर है इससे धर्मेंद्र की निजी जिंदगी में भूचाल आ गया. इस पूरे घटना में शांतिदूत का काम किया अभय देओल के पिता और धर्मेंद्र के भाई अजित सिंह देओल ने. प्रकाश कौर को मनाने की जिम्मेदारी उन्हें ही सौंपी गई. अजित सिंह ने प्रकाश कौर को समझाया कि शादी तो होकर ही रहेगी. अगर वो नहीं मानती तो धर्मेंद्र तलाक का विकल्प भी आजमाने से भी पीछे नहीं हटेंगे. बेहतर है वो कुछ शर्तों के साथ इस स्थिति को स्वीकार कर लें. अजित सिंह की इस धमकी ने असर दिखाया क्योंकि अब प्रकाश कौर के पास भी कोई विकल्प नहीं बचा.

प्रकाश कौर ने धर्मेंद्र-हेमा की शादी को अपनी रजामंदी देते हुए दो शर्तें रखी. वो ये कि- केवल सनी और बॉबी के करियर को प्राथमिकता देंगे और शादी के बाद हेमा अगर बेटा पैदा करती है तो धर्मेंद्र धर्मेन्द्र की जायदाद में कोई हिस्सा नहीं मिलेगा. दोनों ही शर्तें कड़ी थी मगर धर्मेंद्र के पास और कोई विकल्प भी नहीं था. धर्मेन्द्र अपने चार बच्चों को बेसहारा छोड़ना नहीं चाहते थे और हेमा को लेकर दिल के हाथों भी मजबूर थे. आखिरकार उन्हें प्रकाश कौर की शर्तें माननी पड़ी और इसी शर्त के बूते धर्मेंद्र ने हेमा से शादी रचा ली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here