जब करीना ने बॉबी को फिल्म ‘जब वी मेट’ से निकलवाया..!

0
147

साल 2007 में बॉलीवुड में दो चीजो की काफी चर्चा रही. एक फिल्म ‘जब वी मेट’ की और दूसरी करीना कपूर और शाहिद कपूर के ब्रेकअप की. फिलहाल हम बात इनके ब्रेकअप की नहीं, बल्कि उस फिल्म की करेंगे जिसने दोनों को बड़ा स्टार बना दिया. ‘सिनेमास्कोप’ में हम आपको फिल्म ‘जब वी मेट’ से जुडी दिलचस्प जानकारियों को आपके सामने लाएं हैं. बता दें कि जब फिल्म के निर्देशक इम्तियाज़ अली ने ‘जब वी मेट’ की परिकल्पना की तो फिल्म के लिए उनकी पहली पसंद बॉबी देओल और करीना कपूर थे, लेकिन करीना तो इम्तियाज़ अली से मिलने तक को तैयार नहीं थी.बावजूद इसके बॉबी ने करीना को फिल्म में काम करने के लिए तैयार कर लिया. लेकिन घटना कुछ ऐसी घटी की बॉबी ही फिल्म से आउट हो गए और फिल्म में उनकी जगह शाहिद कपूर को ले लिया गया.

कैसे…शाहिद को मिली बॉबी देओल की जगह..? ये हम आपको बताते हैं.
साल 2007 में जब इम्तियाज़ अली ने फिल्म ‘जब वी मेट’ की प्लांनिंग की तो बॉबी देओल उनकी पहली पसंद थे. बॉबी के कजिन अभय देओल ने उनकी मुलाक़ात इम्तियाज़ से करवाई थी. पहले इस फिल्म का टाइटल ‘गीत’ रखा गया था. बॉबी से मुलाक़ात के दौरान जब हीरोइन की बात चली तो बॉबी ने इसके लिए करीना कपूर का नाम सुझाया और श्री अष्टविनायक को इसके निर्माण के लिए तैयार करने का वादा किया. अष्टविनायक पहले इम्तियाज़ के साथ फिल्म बनाने को तैयार नहीं थे लेकिन बॉबी और अष्टविनायक प्रोडक्शन्स के अच्छे संबंध थे, इसलिए बॉबी के कहने पर वो मान गए. बॉबी के साथ करीना कपूर को भी इस फिल्म के लिए साइन कर लिया गया. लेकिन जब इस फिल्म का ऑफिशियल अनाउंसमेंट हुआ तो कास्टिंग में अपना नाम ना देख कर बॉबी Shocked रह गए. इम्तियाज़ ने करीना के साथ शाहिद कपूर को इस फिल्म में कास्ट कर लिया, जो करीना के साथ अफेयर के कारण उन दिनों सुर्ख़ियों में थे.
बॉबी के मुताबिक,”इस फिल्म से उन्हें बाहर करने में इम्तियाज़ या करीना में से जिसका भी हाथ हो, लेकिन इम्तियाज़ अली की इस चीटिंग से उन्हें काफी चोट पहुंची. अफेयर के दौरान करीना, शाहिद के मुकाबले बड़ी स्टार थी. जाहिर है करीना ने शाहिद को प्रमोट करने के लिए इम्तियाज़ से उनकी सिफारिश की होगी.”

इम्तियाज़ अली ने भले ही करीना के दबाव में फिल्म से बॉबी को निकालकर शाहिद कपूर को ले लिया, लेकिन ये फांस खुद उनके भी दिल में चुभती रही जिसकी भरपाई के लिए इम्तियाज़ अली ने बॉबी को मानाने की काफी कोशिशें की लेकिन बॉबी नहीं माने तो नहीं माने. बता दें कि ‘जब वी मेट’ की धमाकेदार कामयाबी के बाद इम्तियाज़ अली बड़े डाइरेक्टर जरूर बन गए, लेकिन उन्हें बॉबी का एहसान याद रहा. इसलिए जब इम्तियाज़ ने फिल्म ‘हाइवे’ की प्लानिंग की तो उन्हें रणदीप हुड्डा से पहले ये रोल बॉबी को ऑफर किया था, लेकिन बॉबी नहीं माने.

इम्तियाज़ की मौक़ापरस्ती से बॉबी इतने नाराज थे कि जब इम्तियाज़ उनसे मिलने पहुंचे, तो बॉबी ने उन्हें सीधा बाहर का रास्ता दिखा दिया. करीना और बॉबी के बीच फिल्म ‘अजनबी’ से ही अनबन चल रही थी ,शायद इसलिए उन्होंने ‘फिल्म ‘जब वी मेट’ से बॉबी का पत्ता साफ़ करवा दिया. ये तो तय है कि अगर बॉबी ने फिल्म ‘जब वी मेट’ की होती तो उनके करियर का ग्राफ आज कुछ और ही होता. यहां ये जानना दिलचस्प है कि ‘जब वी मेट’ की कामयाबी के बाद शाहिद और करीना भी अलग हो गए. करीना ने बॉबी की दोस्ती और शाहिद का प्यार दोनों खो दिया लेकिन इस फिल्म ने उन्हें बड़ा स्टार तो बना ही दिया.

सीमित बजट में बनी फिल्म ‘जब वी मेट’ ने भारी मुनाफ़ा कमाया और इसे साल 2007 की सर्वश्रेष्ठ फिल्म के रूप में आंका गया. करीना कपूर और शाहिद कपूर को फिल्म के लिए बेस्ट एक्ट्रेस और बेस्ट एक्टर का खिताब भी दिया गया.14 दिसंबर, 2007 को बॉक्स ऑफिस पर सफलता के पचास दिन पूरे करने पर फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर सुपर हिट का दर्जा दिया गया और सिनेमाओं में सफलतापूर्वक लगातार चलती रही, इससे बाद में रिलीज हुई फिल्म ‘ओम शांति ओम’ की तुलना में इसके शो अधिक संख्या में चल रहे थे. 26 अक्टूबर, 2007 को रिलीज हुई फिल्म ‘जब वी मेट’ को लोगों ने काफी पसंद किया. फिल्म ने पहले सप्ताह 350 सिनेमाघरों से कुल 11.75 करोड़ रुपये का कारोबार किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here