Dharmendra (Part-12) : जब करियर के ढलान पर बी-ग्रेड फिल्मों में काम करने लगे धर्मेंद्र

0
367
साल 1999 तक आते-आते धर्मेंद्र का फ़िल्मी करियर पूरी तरह ढलान पर आ चुका था. उनकी मार्किट वैल्यू पूरी तरह गिर चुकी थी और कोई भी बड़ा बैनर उनके साथ काम करने को तैयार नहीं था. धर्मेंद्र के ऊपर पूरे कुनबे की जिम्मेदारी थी और उनके सपनों का स्टूडियो सनी सुपर साउंड अधूरा पड़ा था, जिसे पूरा करने के लिए उन्हें पैसों की सख्त जरूरत थी.

1999 में बी ग्रेड फिल्मों के बादशाह कांतिशाह ने उन्हें फिल्म ‘मुन्नी बाई’ का ऑफर दिया और उन्होंने ये फिल्म स्वीकार कर ली. इस तरह बी ग्रेड फिल्मों में धर्मेंद्र की एंट्री हो गई. इसके बाद तो जैसे धर्मेंद्र बी ग्रेड फिल्मों का चेहरा ही बन गए. इसके बाद वो ‘मेरी जंग की एलान’, ‘जागीरा’ और ‘जल्लाद नंबर 1’ जैसी फिल्मों में काम कर पैसे बटोरते रहे. इसी बीच एक फिल्म में कांति शाह ने धर्मेंद्र का फेक रेप सीन शूट कर लिया, जिसकी भनक जब सनी देओल को लगी तो उन्होंने कांति शाह की जबरदस्त पिटाई की जिसके बाद धर्मेंद्र ने ऐसी फिल्मों से तौबा कर लिया.

सनी ने धर्मेंद्र को एक्टिंग के बजाय फिल्म निर्माण की सलाह दी और ‘घायल’ के निर्माण के जरिये धर्मेंद्र फिर से निर्माता बने. अनिल शर्मा की फिल्म ‘अपने’ की सफलता के बाद धर्मेंद्र एक बार फिर एक्टिंग के मैदान में सक्रीय हुए और फिल्म ‘यमला पगला दीवाना’ की सीरिज के जरिये आज भी एक्टिंग में सक्रीय हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here