Top 5 Facts of “KAALIYA’:जब Amitabh Bachchan ने कहा -ये फिल्म चल गई तो एक्टिंग करना छोड़ दूंगा

0
297

अमिताभ बच्चन की फ़िल्में आज की पीढी के लिए भी कौतुहल का विषय बनी हुई है .यही वजह है कि उनकी फिल्मों के रीमेक बनने का सिलसिला जारी है .पिछले दिनों बिग बी की फिल्म ‘शहंशाह’ के रीमेक का ऐलान हुआ था ./अब खबर है कि टीनू आनंद फिल्म ‘कालिया’ का रीमेक बनाना चाहते है, तो आइये आज की टॉप 5 सीरिज में जानते हैं इस फिल्म से जुडी 5 अनसुनी बातें ..
कालिया के किरदार के लिए विनोद खन्ना टीनू आनंद की पहली पसंद थे लेकिन उन दिनों खन्ना रजनीश के आश्रम में जाने की तैयारी कर रहे थे .इसलिए उन्होंने इस फिल्म में काम करने से मना कर दिया .खन्ना से इंकार के बाद धर्मेन्द्र से संपर्क किया गया .उन्हें फिल्म की कहानी ही पसंद नहीं आई. अंत में टीनू ने इस फिल्म में अमिताभ बच्चन को लेने का फैसला किया .
अमिताभ बच्चन और टीनू आनंद दोनों संघर्ष के दिनों के साथी थे। बच्चन की कामयाबी के बाद टीनू ने उनके साथ एक फिल्म निर्देशित करने की सोची लेकिन बच्चन उन्हें टाइम देने को तैयार ही नहीं थे. 6 महीनों के इंतज़ार के बाद एक दिन टीनू फिल्म डॉन के सेट पर जा धमके और बच्चन को इस बात के लिए मजबूर कर दिया कि वो उनकी कहानी सुने. बच्चन आखिरकार तैयार हो गए और टीनू ने उन्हें फिल्म ‘कालिया’ की कहानी सुनानी कर दी। फिल्म के प्रीमियर पर बच्चन ने टीनू को बताया कि ये कहानी उन्हें बिलकुल पसंद नहीं आई थी। उन्होंने तो केवल दोस्ती की खातिर फिल्म साइन की थी.
फिल्म के निर्माण के दौरान अक्सर किसी ना किसी बात को लेकर अमिताभ और टीनू आनंद के बीच बहस छिड़ जाती .फिल्म में एक dialogue था- ‘तू आतिशे-दोज़ख से डरता है क्या,जिन्हें हैं वो आग को पी जाते हैं पानी करके’-अमिताभ चाहते थे की इस dialogue को फिल्म से निकाल दिया जाए .लेकिन टीनू इसके लिए तैयार नहीं थे. उनका कहना था की ये dialogue जरूर हिट होगा. अमिताभ ने चुनौती देते हुए टीनू से कहा कि-अगर ये dialogue हिट हो गया तो एक्टिंग करना छोड़ देंगे .फिल्म के रिलीज के बाद dialogue तो हिट हो गया लेकिन अमिताभ बच्चन ने एक्टिंग नहीं छोडी .
फिल्म में एक और dialogue है जो आगे चलकर काफी पोपुलर हुआ. वो ये कि -‘हम जहाँ खड़े होते हैं,लाइन वहीं से शुरू होती है .ये dialogue दरअसल विलेन बॉब क्रिस्टो का था लेकिन अमिताभ बच्चन को ये इतना पसंद आया कि उन्होंने टीनू से कहकर अपने रोल के साथ जुडवा लिया .ये dialogue आज भी काफी पॉपुलर है ..
इस फिल्म में प्राण का रोल पहले संजीव कुमार करने वाले थे .लेकिन अमिताभ बच्चन संजीव कुमार को लेकर हमेशा से खुद को असुरक्षित मानते रहे हैं. संजीव कुमार की जबरदस्त एक्टिंग स्किल से अमिताभ बच्चन इतने इनसिक्योर रहते थे कि हमेशा उनके साथ एक्टिंग करने से बचते रहते थे .इस फिल्म में भी वही हुआ .अमिताभ बच्चन के दबाव के कारण संजीव कुमार को इस फिल्म से हाथ धोना पडा और उनकी जगह प्राण को साइन किया गया .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here