इस अभिनेत्री से प्यार में मिले धोखे ने दिलीप कुमार को बनाया ‘ट्रेजिडी किंग”

0
67
दिलीप कुमार ने अपनी फिल्मों में एक निराश, हताश प्रेमी के इतने सारे रोल किये कि इंडस्ट्री ने उन्हें ‘ट्रेजिडी किंग’ का ही खिताब दे दिया. दरअसल दिलीप कुमार ऐसे किरदारों में इतनी गहराई तक उतर जाते थी कि ऐसा लगता था दिलीप कुमार प्रेम में मिली असफलता को परदे के माध्यम से पेश कर रहे हैं. और यही सच भी है. दिलीप कुमार को सबसे पहला प्रेम अभिनेत्री कामिनी कौशल से हुआ. लेकिन पारिवारिक दबाव के कारण कामिनी कौशल दिलीप कुमार से अलग हो गयी  जिसका दिलीप कुमार के जीवन पर गहरा असर पड़ा. वो बुरी तरह टूट गए और अपने दर्द को एक्टिंग के जरिये अभिव्यक्त करते रहे. आइये जानते है कि कैसे कामिनी कौशल ने दिलीप कुमार को ट्रेजिडी किंग बना दिया था.

साल 1948 में बनी फिल्म ‘शहीद’ में अपनी नायिका रही कामिनी कौशल की सादगी और शांत स्वभाव ने दिलीप साहब को काफी प्रभावित किया. ये वो दौर था जब पढी-लिखी भले घर की लडकियां फिल्मों में काम करने से कतराती थी. कामिनी का शिक्षित, प्रतिभावान और संभ्रांत खानदान से होना ऐसी चीजें थी जिनके कारण दिलीप कुमार का उनके प्रति गहरा झुकाव हो गया. दिलीप कुमार जानते थे कि कामिनी एक कंजर्वेटिव हिंदू परिवार से है और वो एक मुस्लिम हैं, इसलिए इस मोहब्बत को कोई मंज़िल नहीं मिलने वाली. इसके बावजूद वो दिल के हाथों मजबूर थे. स्वभाव से अति संवेदनशील दिलीप कुमार पर मोहब्बत का ये रंग इस कदर चढ़ा कि वो हकीकत को वो पूरी तरह भुला बैठे.

फिल्मी हलके में दिलीप कुमार और कामिनी कौशल को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म था, लेकिन खुद दिलीप कुमार अपने संबंधों को लोगों की नजरों से बचाये रखने के प्रति पूरी तरह चौकस थे. बात सार्वजनिक ना हो जाए इसलिए दोनों गुप्त रूप से मिलते. मसलन लोकल ट्रेन का कम्पार्टमेंट इनके मिलने की स्थायी जगह थी. दोनों बेमकसद एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन की यात्रा करते. उमंगों से लबालब दिलों के शोर ट्रेन की घड़घड़ाहटों के नीचे दब जाती, लेकिन ये सिलसिला कितने दिनों तक चल पाता..! बात धीरे-धीरे फैलने लगी और उड़ते-उड़ते कामिनी के घरवालों तक भी पहुंच गयी. घरवालों ने इस रिश्ते का विरोध किया लेकिन कामिनी ने बगावत कर दी. कामिनी दिलीप कुमार से अलग होने को तैयार नहीं थी.

इसी बीच कामिनी कौशल की बड़ी बहन का स्वर्गवास हो गया जिसके दो बच्चे थे. घरवाले चाहते थे कामिनी अपने जीजा से शादी कर इन दोनों बच्चों को पाले, लेकिन कामिनी इसके लिए तैयार नहीं थी. उनके इस रवैये से कामिनी के भाई ने उन्हें आत्महत्या की धमकी देकर डराना शुरू कर दिया और एक दिन उन्होंने वाकई आत्महत्या कर ली. इस हादसे के बाद कामिनी कौशल ने खुद को दिलीप कुमार से पूरी तरह दूर कर लिया. इस घटना से दिलीप कुमार बुरी तरह टूट चुके थे. उनके दिल पर इसका गहरा असर पड़ा और वो हताशा के शिकार हो गए. कुछ लोगों का कहना है कि इससे उबरने के लिए उन्हें मनोचिकित्सक की भी सहायता लेनी पड़ी थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here