जब बीमार राजेश खन्ना के पोस्टर पर बर्फ की सिकाई करने लगी थीं लड़कियां

0
323

‘ऊपर आका, नीचे काका’ यह कहावत एक वक्त बॉलीवुड में काफी मसहूर थी. हिन्दी फिल्म जगत के पहले सुपरस्टार राजेश खन्ना आज हमारे बीच होते तो 74 वां जन्मदिन मना रहे होते. पंजाब के अमृतसर में 29 दिसंबर, 1942 को जन्मे राजेश खन्ना ने बॉलीवुड में अपनी शुरुआत फिल्म ‘आखिरी खत’ से की. निर्माता-निर्देशक शक्ति सामंत की फिल्म ‘आराधना’ ने उनके करियर का सितारा बुलंद कर दिया. इसके बाद उन दिनों उनकी अमर प्रेम, दाग, नमक हराम, रोटी, ‘कटी पतंग’, ‘आनंद’, ‘आन मिलो सजना’, ‘महबूब की मेहंदी’, ‘हाथी मेरे साथी’ और ‘अंदाज’, ‘दो रास्ते’, ‘दुश्मन’, ‘बावर्ची’, ‘मेरे जीवन साथी’, ‘जोरू का गुलाम’, ‘अनुराग’ और ‘हमशक्ल’ जैसी कई सुपरहिट फिल्में आईं.

इन फिल्मों के बाद से उनकी छवि एक रोमांटिक हीरो की बन गई. उनके दिवाने तो सभी थे, लेकिन खासतौर पर लड़कियां उनके पीछे पागल हो चुकी थी. यह भी कहा जाता है कि लड़कियां उनकी इतनी दिवानी थी कि उन्हें अपने खून से खत लिखकर उसी से अपनी मांग भर लिया करती थी. काका को लेकर लड़कियों की दिवानगी का एक किस्सा यह भी है कि एक बार जब राजेश खन्ना बीमार पड़े थे तो कॉलेज की कुछ लड़कियों ने उनके पोस्टर पर बर्फ की थैली रखकर उनकी सिकाई शुरू कर दी ताकि उनका बुखार जल्द से जल्द उतर जाए.

काका के पीछे कई लड़कियां दिवानी थी लेकिन वो अपना दिल पहली नजर में हीं गुजराती गर्ल डिंपल कपाड़िया को दे चुके थे. इसके बाद राजेश और डिंपल के बीच तीन साल तक अफेयर चला. लेकिन 1973 में दोनों ने शादी कर ली. शादी के वक्त जहां राजेश खन्ना की उम्र 31 साल थी वहीं उस वक्त डिंपल महज 16 साल की थीं. लेकिन राजेश और डिंपल की शादी ज्यादा दिन तक नहीं टिक पाई. कुछ ही दिन बाद दोनों अगल हो गए. डिपंल से पहले राजेश खन्ना का प्यार अंजू महेन्द्र थीं, वहीं अनीता आडवाणी के साथ भी उनके लिव-इन-रिलेशनशिप की बात सामने आई थी. वैसे तो काका की रियल लाईफ भी किसी किताब के रोचक पन्नों से कम नहीं है. लेकिन इसी के साथ ‘काका’18 जुलाई, 2012 को इस दुनिया को अलविदा कह गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here