लेटलतीफी के लिए बदनाम Shtrughn Sinha को Ramesh Sippy और B R Chopra ने ऐसे सिखाया सबक

0
345

शत्रुघ्न सिन्हा की. सिन्हा अपने पूरे करियर में अपनी लेटलतीफी के लिए काफी बदनाम रहे हैं. वो कभी सेट पर टाइम से नहीं आते थे .इस कारण ज्यादातर निर्माता उन्हें अपनी फिल्मों में लेने से कतराते थे लेकिन उनकी लोकप्रियता इतनी थी की उन्हें इग्नोर करना मुश्किल था .ये लेटलतीफी शत्रुघ्न सिन्हा को तब महंगी पड़ गई जब बी आर चोपड़ा ने उन्हें सेट से बाहर निकाल दिया और रमेश सिप्पी ने सिन्हा के पेमेंट का एक बड़ा हिस्सा काट कर अपने नुक्सान की भरपाई कर ली. तो आइये जानते हैं की बी आर चोपड़ा और रमेश सिप्पी ने समय से सेट पर नहीं आने के लिए शत्रुघ्न सिन्हा कैसे मजा चखाया …

1969 में बी आर चोपड़ा ने यश चोपड़ा के निर्देशन में ‘इत्तेफाक’ बनाने का ऐलान किया तो उन्हें इस फिल्म के मुख्य किरदार के शत्रुघ्न सिन्हा सही चॉइस लगे और उन्होंने शत्रुघ्न सिन्हा को कास्ट किया गया .चोपड़ा साहब सिन्हा की लेटलतीफी से वाकिफ थे इसलिए उन्होंने कॉन्ट्रेक्ट में वक़्त की पाबंदी की शर्त पहले ही जोड़ दी थी .लेकिन दो चार दिन की शूटिंग के बाद आदत से मजबूर सिन्हा सेट पर लेट आने लगे .चोपड़ा को सिन्हा की ये आदत खटक रही थी इसलिए एक दिन जब सिन्हा सुबह की शिफ्ट में शाम तीन बजे पहुंचे तो चोपड़ा साहब से उनसे कैफियत तलब की .इस पर शत्रुघ्न का जवाब था कि अगर हीरो ही सारे रूल और रेगुलेशन फ़ॉलो करने लगे तो फिर हीरो होने का फायदा ही क्या? जाहिर है सिन्हा की इस अकड़ ने चोपड़ा साहब को बुरी तरह नाराज कर दिया .चोपड़ा साहब इतने नाराज हुए कि उन्होंने सिन्हा को तुरत सेट से बाहर निकल जाने को कहा .शायद शत्रु ने इसकी उम्मीद नहीं की थी .उन्होंने चोपड़ा साहब को मनाने की काफी कोशिश की लेकिन वो नहीं माने और शत्रु को ये फिल्म छोडनी ही पड़ी .बाद में उनकी जगह राजेश खन्ना के साथ ये फिल्म बनी और हिट रही .

सिन्हा की लेटलतीफी के कारण उनके हाथ से एक बड़ी फिल्म निकल गई लेकिन फिर भी वो आदत से बाज नहीं आए. 1980 में रमेश सिप्पी की फिल्म ‘शान’ की शूटिंग के दौरान भी उनका यही रवैया बरकरार जिससे सिप्पी काफी परेशान हो गए .एक दिन उन्होंने सिन्हा को फिल्म से ड्राप करने का मन बना लिया और उनके किरदार के लिए नसीरुद्दीन शाह को अप्रोच किया .नसीर उन दिनों फिल्म ‘अलबर्ट पिंटो को गुस्सा क्यों आता है ‘ की शूटिंग कर रहे थे .उनके पास डेट्स नहीं थी इसलिए उन्होंने मना कर दिया .ये खबर जब सिन्हा को लगी तो उन्हें समझ में आ गया की अब ये फिल्म हाथ से निकलने वाली है .उन दिनों सिप्पी ‘शोले’ जैसी फिल्म बनाकार छाए हुए थे .अगर इतना बड़ा निर्देशक किसी कलाकार को फिल्म से निकाल बाहर करे तो इसका इंडस्ट्री में खराब सिग्नल जाना तय था. अब सिन्हा ने सिप्पी के पास पैरवी लगानी शुरू कर दी ताकि उन्हें फिल्म से ना निकाला जाए.

सिप्पी इस शर्त पर राजी हुए की सिन्हा के कारण जितना नुक्सान हुआ है उन्हें उसकी भरपाई करनी पड़ेगी .सिन्हा के पास कोई चारा नहीं था इसलिए वो राजी हो गए .फिल्म पूरी होने के बाद जब सिप्पी सभी कलाकारों को फुल एंड फायनल पेमेंट कर रहे थे तो उन्होंने सिन्हा के मेहनताने से आधी रकम काट ली .इस तरह उन्होंने सिन्हा की लेटलतीफी के कारण हुए नुकसान की भरपाई कर ली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here