क्यों ! Yash Chopra को निर्देशक बनाने वाले Rajesh Khanna ने Shammi Kapoor की उम्मीदों पर फेरा पानी

0
67

एक स्टार दो स्टोरी यानि 2 in 1 सीरिज में आज बात करते हैं अभिनेता राजेश खन्ना की और जानेंगे की खन्ना ने कैसे यश चोपड़ा को बनाया डाइरेक्टर और कैसे उन्होंने शम्मी कपूर के निर्देशक बनने के सपनों पर फेरा पानी .

बॉलीवुड में यश चोपड़ा को रोमांस किंग माना जाता है. उन्होंने कई बड़े स्टार सिनेमा को दिए तो कई कलाकारों के डूबते करियर को सम्भाला भी . 1972 में जब   यश जी ने बी आर से अलग होकर अपने बैनर यश राज फिल्म्स की नींव रखी और इस बैनर के तले उन्होंने पहली फिल्म ‘दाग’ के निर्माण का ऐलान किया .यश जी के क्रेडिट में भले ही हिट फ़िल्में दर्ज थी लेकिन बी आर फिल्म्स से अलग उनकी कोई पहचान नहीं थी .यही वजह है कि जब उन्होंने ‘दाग’ बनाने का ऐलान किया तो कोई फायनेंसर उनकी फिल्म में पैसा लगाने को तैयार ही नहीं हुआ .ऐसे बुरे वक़्त में अभिनेता राजेश खन्ना उनकी मदद को आगे आए और उन्होंने उनकी फिल्म बिलकुल मुफ्त में साइन की. राजेश खन्ना उन दिनों बड़े स्टार थे .उनकी एंट्री होते ही फायनेंसरों की लाइन लग गई और दाग शुरू हो गयी .1973 में फिल्म रिलीज हुई और हिट रही .इसके साथ ही यश जी की गाडी चल निकली .इस तरह यश चोपड़ा को निर्माता-निर्देशक बनाने में राजेश खन्ना का काफी योगदान रहा .

1976 में अभिनेता शम्मी कपूर ने फिल्म ‘बंडलबाज़’ के जरिये निर्देशन के मैदान में कदम रखा और राजेश खन्ना को इस फिल्म में हीरो लिया .इसी साल राजेश खन्ना मुशीर रियाज़ की फिल्म ‘महबूबा’ में भी काम कर रहे थे .दोनों फिल्म के कुछ प्लाट एक-दूसरे से मिलते जुलते थे इसलिए शम्मी और मुशीर दोनों की कोशिश ये थी कि उनकी फिल्म पहले रिलीज हो .मुशीर रियाज़ राजेश खन्ना के ख़ास हमप्याला थे जाहिर है खन्ना जान बूझ कर शम्मी कपूर की फिल्म को देर करवाने लगे .खन्ना सेट पर हमेशा लेट आते और कुछ ना कुछ बहाना कर महबूबा की शूटिंग के लिए निकल जाते .जल्द ही ये बात शम्मी कपूर को पता चल गई. शम्मी समझ गए कि खन्ना उनकी फिल्म को लटकाना चाहते हैं. एक दिन खन्ना जब सेट पर लेट पहुंचे तो शम्मी कपूर का सब्र जवाब दे गया और वो खन्ना को गालियाँ देते हुए बोले जब तक फिल्म की शूटिंग ख़त्म नहीं हो जाती तब तक वो घर नहीं जा सकते .उस दिन शम्मी ने खन्ना से लगातार नौ घंटे काम करवाया .शम्मी की तमाम कोशिशों के बावजूद महबूबा पहले रिलीज हो गई और फ्लॉप हो गई .इसका असर बंडलबाज पर भी पड़ा और वो भी फ्लॉप हो गई .इस तरह शम्मी कपूर के निर्देशक बनने के मसूबों पर पानी फिर गया .  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here