जब बँगला खरीदने के लिए घटिया फिल्म साइन कर सलीम-जावेद की शरण में पहुंचे राजेश खन्ना

0
35
बात उन दिनों है कि जब राजेश खन्ना सुपरस्टार थे। उस दौरान वे फिल्म अभिनेता राजेंद्र कुमार का बंगला खरीदना चाहते थे, लेकिन राजेन्द्र कुमार इसके लिए तैयार नहीं थे।  बाद में  राजेन्द्र कुमार ने अपने  बंगले को बेचने का निर्णय ले लिया और राजेश खन्ना को खबर भिजवाई की अगर वो उनका बँगला खरीदना चाहते हैं सात लाख रुपयों का इंतजाम जल्द से जल्द करें।   सात लाख रुपये उन दिनों बहुत बड़ी रकम होती थी। सुपरस्टार राजेश खन्ना के पास भी एकमुश्त इतना पैसा नहीं था। राजेश खन्ना ने फैसला लिया की  जो भी फिल्म निर्माता उन्हें सबसे पहले साइन करने के लिए आएगा उसकी फिल्म सात लाख रुपये में वे साइन कर लेंगे और कहानी-स्क्रिप्ट पर ध्यान भी नहीं देंगे।


अगली सुबह साउथ के निर्माता चिनप्पा तेवर  राजेश खन्ना के पास अपनी फिल्म का ऑफर लेकर पहुंचे.   राजेश खन्ना को कहानी जरा भी यह पसंद नहीं आई । फिर भी जब निर्माता ने उन्हें  सात लाख रुपये देना मंजूर कर लिया तो  राजेश खन्ना ने उन्हें  उसकी मनपसंद डेट्स दे दी और इस तरह उन्होंने राजेंद्र कुमार का बंगला खरीद लिया. 


बंगला खरीदने के बाद राजेश खन्ना स्क्रिप्ट लेकर लेखक सलीम-जावेद के घर पहुंचे । उन्होंने उनसे कहा  सिर्फ पैसों की खातिर उन्होंने एक बेहद घटिया फिल्म साइन कर ली है। अब इस स्क्रिप्ट को सुधारो।सलीम-जावेद मान गए । स्क्रिप्ट में काफी सुधार किया गया । फिर फिल्म बनी  ‘हाथी मेरे साथी’।  यह फिल्म 1971 में रिलीज़ हुई और  ब्लॉकबस्टर साबित हुई। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here