जब जीनत अमान के साथ रेप सीन में रीटेक करने लगे राज बब्बर

0
613

80 के दशक में राज बब्बर बॉलीवुड के लिए ऐसे ट्रैम्प कार्ड की तरह होते थे जो किसी भी तरह के रोल में आसानी से फिट बैठ जाते थे. बतौर अभिनेता राज बब्बर की खासियत ये थी कि वो खुद को कभी टाइपकास्ट ही नहीं होने देते थे. एक ही साल वो हीरो भी बने और विलेन भी. विलेन भी ऐसे कि ऐसे रोल निभाने में बड़े-से-बड़े विलेन के हाथ-पाँव भी फूल जाएं. बी आर चोपड़ा की फिल्म इंसाफ का तराजू’ में उन्होंने रमेश गुप्ता नाम के एक रेपिस्ट का रोल इतना बखूबी निभाया कि फिल्म प्रदर्शित होने के बाद लडकियां उनके नाम से ही कन्नी काटने लगी थी.

1980 में बी आर चोपड़ा ने उन्हें अपनी फिल्म ‘इन्साफ का तराजू’ में विलेन के रोल में कास्ट किया. चोपड़ा साहब जैसे बड़े निर्माता-निर्देशक के साथ काम करने का मौक़ा मिलने के बाद राज बब्बर फूले नहीं समा रहे थे लेकिन उनकी ये खुशी तब काफूर हो गयी जब चोपड़ा साहब ने उन्हें रोल सुनाया।

सीन के दौरान राज बब्बर को ज़ीनत अमान को थप्पड़ मारते हुए उनके कपडे फाड़ने थे. ज़ीनत उनके सीनियर थी और इंडस्ट्री की बड़ी अभिनेत्रियों में गिनी जाती थी। जाहिर है शूटिंग के दौरान राज बब्बर बार-बार नर्वस हो जाते और रीटेक पर रीटेक दिए जाते. बार-बार रीटेक होने से चोपड़ा साहब का मूड उखड गया. इधर राज बब्बर जरूरत से ज्यादा मायूस हो गए। ऐसे हालात में खुद ज़ीनत अमान उनकी मदद को आगे आयी. ज़ीनत ने उन्हें इस सीन की जरूरत और उनके किरदार के बारे में बारीकी से समझाया तो उन्हें थोड़ा हौसला बंधा. शूटिंग शुरू हुई तो राज बब्बर में एक झन्नाटेदार थप्पड़ ज़ीनत को जड़ दिया और उन पर टूट पड़े। राज बब्बर की इस फ़िल्मी हैवानियत पर खुद ज़ीनत भी अवाक रह गयी। आखिरकार ये शॉट ओके हो गया. 

1980 में प्रदर्शित ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर ब्लॉकबस्टर साबित हुई। राज बब्बर ने भले ही इस फिल्म में विलेन का रोल किया था लेकिन फिल्मफेयर अवार्ड के लिएउन्हें बेस्ट एक्टर की कैटेगरी में नॉमिनेट किया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here