जानिए ! सफलता पाने के लिए कैसे मिथुन चक्रवर्ती ने इन दो हसीनाओं को बनाया अपना मोहरा

0
164

अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती की इमेज वैसे तो एक भद्र मानूस की है, लेकिन मिथुन बॉलीवुड के दांव-पेंच से भी बखूबी वाकिफ हैं.करियर के शुरुआती दौर में मिथुन ने इस दांव-पेंच को खूब आजमाया और हसीनाओं के बीच अपने आकर्षण को सीढ़ी बना कर सफलता की बुलंदियों पर जा पहुंचे.बॉलीवुड में आने से पहले मिथुन फिल्म ‘मृगया’ के लिए नेशनल अवार्ड जीत चुके थे .फिर भी उनकी साधारण शक्ल और सूरत के कारण कोई उन्हें कमर्शियल फिल्म का हीरो बनाने के लिए तैयार नहीं था. संघर्ष के इस दौर में मिथुन ने हेलेना ल्युक को मोहरा बनाया . 70 के दशक में हेलेना फैशन वर्ल्ड का जाना-माना नाम थीं। इसके बाद 1980 में उन्होंने पहली बॉलीवुड फिल्म ‘जुदाई’ में काम किया। दिल फेंक मिथुन को हेलेना से पहली नजर में ही प्यार हो गया। वहीं हेलेना का जावेद खान से ब्रेकअप हुआ था। दोनों साथ में समय बिताने लगे। लेकिन मिथुन जितना हेलेना के प्यार में पागल थे उतना हेलेना नहीं। इसीलिए मिथुन उनके काफी पीछे पड़े रहते थे।

स्टारडस्ट को दिए एक इंटरव्यू में हेलेना ने कहा था, ‘मिथुन सुबह 6 बजे से लेकर रात में सोने तक उन्हें शादी के लिए मनाया करते थे। वो हर दिन मुझसे मिलते थे। आखिरकार उन्होंने मुझे खुद से प्यार करने पर मजबूर कर दिया। फिर बिना किसी को बताए 1979 में हमने शादी कर ली।’ उस समय हेलेना की उम्र 21 साल थी। इस शादी से मिथुन को मुंबई में ना केवल एक सुरक्षित ठिकाना मिल गया बल्कि फ़िल्मी सर्कल में पहचान भी मिलने लगी .जैसे ही मिथुन फिल्मों में बिजी होने लगे हेलेना से उनकी दूरियां बढ़ने लगी. शादी के बाद ही मिथुन का दिल अब योगिता बाली पर आ चुका था। इस वजह से दोनों के बीच दूरियां आना शुरू हो गई थीं। मिथुन और योगिता के अफेयर की बात सामने आने के कुछ ही दिनों बाद हेलेना और मिथुन के तलाक की भी खबरें सामने आ गईं। शादी से पहले हेलेना एक कामयाब मॉडल थी लेकिन शादी के बाद मिथुन ने उन्हें घर बैठने को मजबूर कर दिया .इस शादी से मिथुन का करियर तो आगे बढ़ा लेकिन हेलेना का करियर ख़त्म हो गया .शादी टूटने के बाद हेलेना मिथुन को दिखाना चाहती थीं कि वो भी एक एक्ट्रेस बन सकती हैं। इसलिए उन्होंने भी फिल्मों में काम करना शुरू किया। लेकिन सफल नहीं हो पाईं।

90 के दशक तक आते आते मिथुन का करियर ढलान पर आ चुका था और बी ग्रेड फिल्मों के सिरमौर बन चुके थे. ऐसे १९९३ में आई पार्थो घोष की फिल्म ‘दलाल’ की सफलता ने मिथुन के करियर की मियाद बढ़ा दी. मिथुन किसी भी कीमत पर इस फिल्म को सफल होते देखना चाहते थे. इसके लिए उन्होंने आएशा जुल्का को मोहरा बनाया .आइये जानते हैं कैसे …मिथुन जैसी फ़िल्में करते थे ‘दलाल ‘ उससे विपरीत फिल्म थी .डबल मीनिंग गाने और हॉट सीन्स इस फिल्म की खासियत थी. जाहिर है कोई बड़ी अभिनेत्री आसानी से इस फिल्म का हिस्सा बनने को तैयार नहीं थी. उन दिनों आयेशा जुल्का पर मिथुन का जादू कुछ ज्यादा ही चढ़ा हुआ था. इसलिए मिथुन के कहने से आएशा ने ये फिल्म साइन कर ली. जुल्का पर मिथुन का जादू ऐसा चढ़ा था की वो फिल्म के एक रेप सीन में टॉपलेस नजर आने को भी तैयार हो गई .लेकिन बाद में इसी सीन को लेकर काफी हंगामा मच गया . जिसके बाद आएशा ने फिल्म के निर्देशक पार्थो घोष और निर्माता प्रकाश मेहरा पर चीटिंग का आरोप लगाते हुए मानहानि का मुकदमा करने की धमकी दे डाली।

आएशा का कहना था कि इस फिल्म में उनकी मर्जी के बगैर बॉडी डबल का इस्तेमाल किया गया। लेकिन इसी फिल्म के एक बेहद ही अश्लील गाने ‘चढ़ गया ऊपर लोटन कबूतर’ को लेकर उन्होंने चुप्पी साध ली. बहरहाल ये तो सच था की ये सीन खुद आएशा की मर्जी से उन पर ही फिल्माया गया था इसलिए आएशा केवल धमकी दे कर रह गई लेकिन इस विवाद ने फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त बूस्ट दे दिया और ये एक कामयाब फिल्म साबित हुई .इस फिल्म के बाद आएशा की इमेज का कबाड़ा हो गया लेकिन मिथुन एक बार फिर लाइम्लाईट में लौट आए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here