जब फराह नाज़ ने माधुरी दीक्षित को सिखाया सबक

0
95

माधुरी दीक्षित अपने करियर के सुनहरे दौर में भी समकालीन अभिनेत्रियों के रोल छीनने-झपटने से बाज नहीं आती थी. और इस काम में उनके सेक्रेटरी रिक्कू राकेशनाथ काफी शातिर तरीके से गोटियाँ बिछाते थे.प्रकाश मेहरा की फिल्म ‘ज़िन्दगी एक जुआ’ के लिए भी माधुरी ने ऐसी ही गोटियाँ बिछाई लेकिन इस बार अभिनेत्री फराह ने उनकी ऐसी फजीहत की कि माधुरी फरहा के साए से भी दूर भागने लगी.

अपने मुंहफट स्वभाव और बेबाकबयानी के बावजूद फराह उस दौर की बाकी अभिनेत्रियों से काफी आगे थी. हर बड़ा निर्माता-निर्देशक उनके साथ काम करने को बेताब रहता था .1992 में निर्माता-निर्देशक प्रकाश मेहरा ने उन्हें अपनी फिल्म ‘ज़िन्दगी एक जुआ’ के लिए साईन किया था .लेकिन अनिल कपूर फराह के साथ काम करने को इच्छुक नहीं थे .जब ये बात माधुरी के सेक्रेटरी रिक्कू को पता चली तो उन्होंने इस फिल्म में माधुरी को लेने का दबाव बना दिया .अनिल कपूर भी यही चाहते थे. नतीजतन फिल्म से फराह की छुट्टी हो गई .जाहिर है फराह इस बात को हल्के में लेने को तैयार नहीं थी.

फराह ने पहले तो अनिल कपूर को जमकर खरी-खोटी सुनाई और माधुरी के खिलाफ मीडिया में काफी शर्मनाक बयान दिया जिसने माधुरी को बुरी तरह डिस्टर्ब कर दिया .फराह ने अनिल कपूर और माधुरी के निजी संबंधों को मीडिया में उछाल कर खूब भद्द पिटवाई .आगे से माधुरी ने फराह से दूर रहना ही बेहतर समझा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here