Bollywood में नाकाम साबित हुए Kumar Gaurav ने रचा कामयाबी का इतिहास,विदेशों में चलता है सिक्का

0
766

खोटा सिक्का की पिछली कड़ी में हमने आपको बताया कि इंडस्ट्री में असफल रहने के बाद कुमार गौरव ने इसे अलविदा कह दिया या यूँ कहें कि उन्हें काम मिलना पूरी तरह बंद हो गया। राजेंद्र कुमार की मौत के बाद उन्हें सुनील दत्त ने सहारा दिया और संजय दत्त के जीजा होने के कारण उन्हें छोटा-मोटा काम मिलता रहा। आखिरकार उन्होंने बॉलीवुड को बाय बाय कहा और मालदीव में शिफ्ट हो गया। फिर शुरू हुआ उनकी ज़िंदगी का नया चैप्टर जो काफी सफल रहा।

कुमार गौरव ने अपने पूरे करियर में 25 से अधिक फिल्मों में काम किया।फिल्मों में करियर ख़त्म होने के बाद वह छोटे परदे की तरफ मुड़े और तीन टेलीविजन शो, सिकंदर, चॉकलेट और जीना इसी का नाम है का भी हिस्सा रहे। साल 2002 में वो फिल्म ‘कांटे’ में नज़र आए. इसके बाद उन्होंने देश छोड़ दिया और मालदीव का अपना ठिकाना बनाया।

मालदीव में शिफ्ट होने से पहले उनके एक दोस्त ने उन्हें मालदीव के ट्रैवल बिजनेस में हाथ आजमाने को कहा। कुमार ने अपने पिता की काफी बड़ी संपत्ति बेच दी और उन्होंने बिजनेस में बड़ा इन्वेस्टमेंट किया। उनकी किस्मत अच्छी थी कि उन्हें शुरुआत में ही इस बिजनेस से जबरदस्त मुनाफ़ा हुआ। आगे बढ़ते हुए कुमार कंस्ट्रक्शन के बिजनेस में भी उतर गए। यहाँ भी उन्हें तगड़ा मुनाफ़ा हुआ। आज कुमार गौरव मालदीव के एक सफल बिजनेसमैन हैं, जाहिर है इस कामयाबी ने उनके दिल से फिल्मों में असफल होने का गम दूर कर दिया होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here