जानिए ! कैसे जीतेंद्र ने रेखा और जयाप्रदा को करियर के लिए बनाया मोहरा

0
61

एक स्टार दो शिकार में आज बात करते हैं बॉलीवुड के जम्पिंग जैक जीतेंद्र की. अपने लम्बे करियर में जीतेंद्र अपनी प्रतिभा की वजह से नहीं बल्कि शातिर दिमाग की वजह से टिके रहे. खासकर अभिनेत्रियों के मामले में तो उन्होंने अपनी वणिज बुद्धि का बेहतरीन इस्तेमाल किया .अभिनेत्रियों के बीच जीतेंद्र काफी लोकप्रिय हुआ करते थे. जीतेंद्र अपनी इस खूबी का बखूबी इस्तेमाल किया. इस दो घटनाओं से आप जीतेंद्र की हकीकत को समझ सकते हैं..

रेखा बहुत ही संवेदनशील और भावुक अभिनेत्री रही है .यही वजह है कि कई अभिनेताओं ने उन्हें अपने-अपने मतलब के हिसाब से इस्तेमाल किया.अभिनेता जीतेंद्र भी ऐसे ही लोगों में से एक थे जिन्होंने रेखा को अपने करियर के भरपूर इस्तेमाल किया. जब तक रेखा जीतेंद्र की इस सच्चाई को समझती तब तक काफी देर हो चुकी थी.
1970 में बी एन घोष ने रेखा को पहली बार फिल्म ‘एक बेचारा’ में कास्ट किया .रेखा उन दिनों एक बड़ी स्टार बन चुकी थी जबकि जीतेंद्र का करियर उन दिनों हिचकोले खा रहा था. शूटिंग के दौरान रेखा और जीतेंद्र काफी नजदीक आ गए .ये सब जानते थे कि जीतेंद्र का अफेयर कहीं और चल रहा है .इस बात को रेखा भी जानती थी .बावजूद इसके रेखा जीतेंद्र के काफी करीब गयी .रेखा की सिफारिश पर जीतेंद्र को कई फ़िल्में मिली .करियर में उछाल और रेखा जैसी प्रेमिका -जीतेंद्र को तो जैसे मनमांगी मुराद मिल गई हो.

‘एक बेचारा’ हिट रही और जीतेंद्र का करियर भी पटरी पर आ गया .अगले ही साल निर्माता कुंदन कुमार ने इस जोड़ी को फिल्म ‘अनोखी अदा ‘ में कास्ट किया .शूटिंग के दौरान एक दिन जीतेंद्र ने रेखा को अपना बेस्ट टाइम पास्ट बताते हुए शेखी बघारनी शुरू कर दी और रेखा ने जीतेंद्र का ये रिमार्क सुन लिया. फिर क्या था रेखा पहले तो अपने मेकअप रूम में जाकर खूब रोई और बाद में सेट से चली गई. इसके बाद दोनों की बातचीत बंद हो गई जिसकी वजह से फिल्म को पूरा करने में पसीने आ गए .जैसे-तैसे फिल्म पूरी हुई और फ्लॉप हो गई. हालांकि बाद में जीतेंद्र और रेखा ने अपने मतभेदों को भुला कर कई फ़िल्में एक साथ की .

अभिनेता जितेंद्र साउथ से बॉलीवुड में आई अभिनेत्रियों की पहली पसंद हुआ करते थे. साउथ में जितेंद्र काफी पॉपुलर रहे हैं इसलिए बॉलीवुड में करियर शुरू करने को इच्छुक अभिनेत्रियां उनके साथ काम जरूर करना चाहती थी. जितेंद्र ने अभिनेत्रियों की इस कमजोरी का फायदा भी खूब उठाया. हेमा मालिनी, रेखा से लेकर जाया प्रदा और श्रीदेवी तक से जितेंद्र इश्क़ फरमा चुके हैं.शुरुआत में रेखा सबसे पहले जितेंद्र के इश्क़ में गिरफ्तार हुई. उन दिनों जीतू अपनी पहली गर्लफ्रेंड (और अब पत्नी) शोभा कपूर और रेखा से डबल शिफ्ट में इश्क फरमाते थे. रेखा के जाने के बाद हेमा मालिनी उनके जीवन में आई. हेमा के बाद श्रीदेवी और जया प्रदा से एक ही साथ उनका रोमांस शुरू हो गया. उन दिनों जितेंद्र की हालत एक अनार दो बीमार जैसी हो गयी थी. श्रीदेवी ने जैसे ही कामयाबी का स्वाद चखा उन्होंने जितेंद्र को इग्नोर करना शुरू कर दिया, जिससे नाराज जितेंद्र ने श्रीदेवी से हिसाब चुकाने के लिए जयाप्रदा का इस्तेमाल तुरुप के इक्के की तरह किया.

1979 में जयाप्रदा ने पहली बार जितेंद्र के साथ फिल्म ‘लोक परलोक’ में काम किया. वैसे जया जितेंद्र को पहले से ही काफी पसंद करती थी. जैसे ही साथ-साथ काम करने का मौक़ा मिला तो दोनों काफी करीब भी आ गए. उन दिनों श्रीदेवी ने जितेंद्र के साथ कई फिल्मों के ऑफर ठुकरा दिए थे, जिससे जम्पिंग जैक काफी चिढ़े हुए थे. सच तो यही है कि श्रीदेवी ने स्टार बनने के लिए जितेंद्र का भरपूर इस्तेमाल किया था. नाराज जीतू ने जयाप्रदा को श्रीदेवी के मुकाबले खड़ा करने के लिए निर्माताओं पर उन्हें अपनी फिल्मों में कास्ट करने का दबाव बनाना शुरू कर दिया. साथ ही वो जया को श्री के खिलाफ भड़काते भी रहे. जयाप्रदा पर जितेंद्र का खुमार कुछ ज्यादा ही चढ़ा हुआ था. उन्होंने इस दुश्मनी को निजी रूप से ले लिया. जया और श्रीदेवी जब भी किसी फिल्म में काम करते एक-दूसरे से बात तक नहीं करते जिसकी वजह से निर्माताओं को काफी परेशानी उठानी पड़ती थी. दोनों की इस अदावत का ज्यादा खामियाजा जयाप्रदा को उठाना पड़ा. अपना दांव ना चलते देख जितेंद्र ने जयाप्रदा से किनारा कर लिया .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here