जानिए ! जगजीत सिंह को क्यों करनी पड़ी अपने गुरु की पत्नी से शादी

0
126

अपनी मखमली आवाज से लोगों के दिलों में बहुत गहरे तक अपनी जगह बनाने वाले जगजीत सिंह आज हमारे बीच नहीं हैं लेकिन उनकी आवाज उनके द्वारा गयी गयी गजलें हमें आज भी सकूं देती हैं और उनकी याद हमारे दिल में ताजा करती हैं ।आज हम आपको जगजीत और उनकी पत्नी चित्रा सिंह कि शादी से पहले का एक किस्सा सुनाते हैं जब चित्र किसी और कि पत्नी थीं । जगजीत सिंह जिस गुरु के पास सीखने जाते थे चित्रा उनकी ही पत्नी थी. संगीत सीखने के दौरान ही दोनों में प्यार हो गया और एक दिन जगजीत सिंह ने उनके पति से ही चित्रा का हाथ मांग लिया .
चित्रा सिंह अपने पति देबू प्रसाद दत्ता के साथ मुंबई में रहती थीं और उनकी एक लड़की भी थी जिसका नाम मोना था ।देबू साहब भी संगीत के क्षेत्र से ही थे और अपने घर पर ही गाने की रिकॉर्डिंग किया करते थे ।जगजीत सिंह देबू साहब के घर जाया करते थे और यहीं उनकी मुलाकात चित्रा सिंह से हुई थी जो उस समय देबू साहब की पत्नी थीं । यहीं उन्होंने जगजीत के साथ गाना शुरू किया और दोनों की बातें भी शुरू हुई फिर वह अच्छे दोस्त भी बन गए ।इधर देबू साहब को भी किसी लड़की से प्यार हो गया था और वह उसके साथ अब अपनी जिंदगी बिताना चाहते थे. एक दिन देबू साहब ने चित्रा से कह दिया कि तुम अपना कॅरियर गायन में ही बना लो मैं अब कहीं और जाना चाहता हूँ । चित्रा के प्यार में डूबे जगजीत सिंह ने जब शादी के लिए प्रपोज किया तो चित्रा ने यह कहते हुए मना कर दिया कि वह आज भी शादी-शुदा हैं भले ही उसका पति उसे धोखा दे रहा है .

तब जगजीत सिंह देबू साहब के पास पहुँच गए और बड़ी शालीनता से उनसे कहा कि में आपकी पत्नी चित्रा सिंह से शादी करना चाहता हूँ ।इस पर देबू साहब ने कह दिया चित्र जो चाहे करे वह स्वतंत्र है में तो अब अपनी ज़िन्दगी में बहुत आगे निकल चूका हूँ.देबू की हरी झंडी मिलते ही दोनों ने शादी कर ली .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here