जानिए ! कैसे रेलवे मैकेनिक से बॉलीवुड स्टार बने सुनील दत्त

0
310

दोस्तों ! हर शख्स की कामयाबी के पीछे नाकामयाबी का गहरा दंश भी छुपा होता है .बॉलीवुड में हर रोज लाखों लोग स्टार बनने का सपना लेकर आते हैं.इनमें से कुछ ही भाग्यशाली होते हैं जो बिना किसी god father या सहारे के अपने सपने पूरे करने में सफल हो जाते हैं. बहरहाल आज से हम आपके लिए लेकर आये हैं ‘ऐसे बने स्टार’ नाम की एक ख़ास सीरिज जिसमें हम आपको मशहूर अभिनेताओं के संघर्ष से रू-ब-रू करवाएंगे .इस कड़ी में सबसे पहले बात करते हैं अभिनेता सुनील दत्त जिनका बॉलीवुड में सफल होना एक चमत्कार ही था. 

 
सुनील   दत्त  का पूरा परिवार पाकिस्तान से भारत आया था .यहाँ आकर उन्होंने लखनऊ के रिफ्यूजी कैम्प में शरण ली. याकूब नामक एक शख्स की मदद से उन्हें रेलवे में छोटी-मोटी नौकरी मिल गई .लेकिन सुनील दत्त अभिनेता बनना चाहते थे इसलिए वो मुंबई आ गए .  यहाँ उन्हें  नौकरी मिली सीलोन रेडियो में। रेडियो में उन्हें बॉलीवुड स्टार्स के इंटरव्यू लेने का काम सौंपा गया .इसी सिलसिले में उनकी मुलाक़ात एक दिन निर्देशक रमेश सहगल से हुई .सहगल को सुनील दत्त की कद-काठी पसंद आ गई और उन्होंने दत्त को १९५५ में फिल्म ‘रेलवे प्लेटफॉर्म’ से लांच कर दिया . 

1955 में बनी ‘रेलवे स्टेशन’ सुनील दत्त की  पहली फिल्म थी। १९५७ तक दत्त साहब ने कई फिल्मों में काम किया लेकिन असली नाम और शोहरत उन्हें फिल्म मदर इन्डिया ने ही दी। 1957 में रिलीज हुई ‘मदर इंडिया’ ने उन्हें पहचान दिलाई। इस फिल्म में वह नरगिस के बिगड़ैल बेटे बने थे, जिसे मां अपने हाथों से गोली मार देती है।मदर इंडिया की ही शूटिंग के दौरान हुआ यूं कि एक सीन के दौरान सेट पर आग लग गई और नरगिस उसमें फंस गईं। सुनील दत्त एक हीरो की तरह आग में कूदे और नरगिस की जान बचाई। आग वाले हादसे के बाद नरगिस का नजरिया सुनील दत्त को लेकर पूरी तरह बदल गया। इसी बीच सुनील दत्त की बहन बीमार पड़ गईं। बिना सुनील दत्त को बताए नरगिस उनकी बहन को लेकर अस्पताल चली गईं और इलाज करवाया। दोनों के प्यार पर बंबई के तमाम लोगों को एतराज था और एक अंडरवर्ल्ड डॉन ने भी इनकी शादी रुकवाने की कोशिश की।लेकिन नर्गिस की इंदिरा गांधी से नजदीकियों के कारण किसी की एक ना चली .आखिरकार १९५८ में दोनों ने शादी कर ली. 
सुनील दत्त ने बिना किसी सहारे के बॉलीवुड में अपनी मेहनत और किस्मत के सहारे मुकम्मल जगह बनाई। उनके इस संघर्ष का फायदा उनके साहबजादे संजय दत्त को मिला जो बिना किसी टैलेंट के बॉलीवुड के बड़े सितारों में शामिल हैं। दोस्तों ! कल इस कड़ी में हम बात करेंगे अभिनेता धर्मेंद्र और उनके संघर्ष की। आप देखते रहिए बॉलीवुड आजकल का ख़ास प्रोग्राम ‘ऐसे बने स्टार ‘

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here