जानिए ! कभी पानी की टंकी के पीछे छुपकर सोने वाले Mithun Chkraborty कैसे बने सुपर स्टार

0
435

दोस्तों ! बॉलीवुड में आज कई ऐसे सितारे जगमगा रहे हैं जिन्होंने संघर्ष का दर्दभरा दौर देखा है. कई कठिनाइयों से गुजरते हुए आज वो इस मुकाम पर पहुंचे हैं की खुद उन्हें अपनी सफलता पर यकीन नहीं होता .अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती भी उन्हीं में से एक हैं. ‘ऐसे बने स्टार’ में आज मिथुन के संघर्ष और उनकी सफलता के बारे में बात करते हैं.

16 जून,1950 को कलकत्ता में जन्मे मिथुन का असली नाम गौरांग चक्रवर्ती है. बचपन से उन्हें डांस का शौक था और वो छोटे-मोटे कार्यक्रमों और स्टेज प्रोग्राम में डांस कर पैसे कमाया करते थे.पढाई पूरी करने के बाद मिथुन उस समय चल रहे नक्सल आन्दोलन का  हिस्सा बन गए  पर भाई की  अचानक मौत ने मिथुन की जिंदगी बदलकर रख दी.   मिथुन कलकत्ता से मुंबई आ गए. यहां उन्होने पुणे फिल्म संस्थान से अभिनय की डिग्री हासिल की और बाहर निकलते ही मिथुन को मृगया फिल्म के लिए साइन कर लिया गया. 1976 में रिलीज हुई मृगया फिल्म जबरदस्त हिट रही. और अपनी पहली ही फिल्म के लिए मिथुन ने बेहतरीन अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार जीत लिया.

मिथुन को तब लगा कि उनका राह आसान हो गई है. पर ऐसा नहीं था. असली संघर्ष तो अब शुरू हुआ था.जब मिथुन  मुंबई आए तो उनके पास ना तो  रहने को घर था और ना ही खाने को पैसे .वो  ऐसे दिन थे जब मिथुन  बिल्डिंग की छतों पर बनी पानी की टंकियों पर छिप जाते और  वहीं सो जाते ताकि सिक्योरिटी गार्ड उन्हें देख  न सकें और वहां से बाहर न निकाल दें।  जब उन्होंने  काम ढूंढ़ने की शुरुवात की तो उनके काले रंग की वजह से लोगों ने उनका काफी मजाक उड़ाया .अभिनेता जीतेंद्र ने एक बार मिथुन का मजाक उड़ाते हुए कहा था -ये कालिया अगर हीरो बन गया तो मैं इंडस्ट्री ही छोड़ दूंगा .खैर..मिथुन डांस में पारंगत थे इसलिए उन्होंने डांस को ही अपना प्लस पॉइंट बनाया . मिथुन ने उस समय की डासिंग सनसनी हेलेन के असिस्टैंट के तौर पर दूसरे नाम राना रेज के तौर पर काम करना शुरू किया.इसी  बीच अमिताभ बच्चन की फिल्म दो अंजाने में मिथुन ने एक छोटा सा रोल भी किया. और इस तरह के कई और रोल्स ने मिथुन के लिए एक रास्ता तैयार कर दिया.

1978 मिथुन चक्रवर्ती की रिलीज फिल्म ‘मेरा रक्षक’ हिट रही. पर पहचान कुछ हद तक बनी 1979 की सुरक्षा से.सुरक्षा के हिट होने के बाद मिथुन के अभिनय का सिक्का चल गया. 1982 तक मिथुन दादा ने कई जोनर की फिल्में की. पर जब डिस्को डांसर 1982 में रिलीज हुई तो मिथुन चक्रवर्ती बन गए स्टार. और रही सही कसर पूरी कर दी प्यार झुकता नहीं फिल्म की कामयाबी ने पूरी कर दी.   कभी पानी की टंकी के पीछे छुपकर सोने वाले मिथुन के पास जुहू में दो आलीशान बंगले और मनाली में एक फाइवस्टार होटल है.मिथुन की सफलता की कहानी किसी फेयरी टेल से कम नहीं है .
<

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here