जब Rajendra Kumar की दरियादिली देख भर आई Dharmendra की ऑंखें

0
60

फिल्म इंडस्ट्री में फ़िल्में छीनने -झपटने के लिए सितारे किसी भी हद तक जाने को तैयार रहते हैं. लेकिन एक दौर ऐसा भी था जब सीनियर कलाकार ना केवल जूनियर की हौसलाआफजाई करते थे बल्कि उनके करियर को आगे बढ़ाने में उनकी भरपूर मदद भी करते थे. जुबली कुमार के नाम से मशहूर राजेंद्र कुमार एक ऐसे ही दरियादिल इंसान थे जिन्होंने बुरे दिनों में धर्मेंद्र की इतनी मदद की कि उनकी दरियादिली देख धर्मेंद्र की आँखों में आंसू आ गए। आइये जानते हैं क्या था पूरा मामला।

निर्माता-निर्देशक मोहन कुमार ने धर्मेंद्र को राजेंद्र कुमार के साथ फिल्म ‘आई मिलन की बेला’ में कास्ट किया था. इस फिल्म में राजेंद्र कुमार हीरो थे जबकि धर्मेंद्र का रोल निगेटिव था। बावजूद इसके फिल्म की कामयाबी का सारा क्रेडिट धर्मेंद्र के हिस्से आया। राजेंद्र कुमार को इससे ज़रा भी समस्या नहीं हुई बल्कि वो धर्मेंद्र के काम से काफी इम्प्रेस हुए और दुसरे निर्माताओं से उनकी सिफारिश करने लगे। राजेंद्र कुमार के रिश्तेदार ओ पी रल्हन ने जो उस दौर के बड़े निर्माता-निर्देशकों में से एक थे उन्होंने राजेंद्र कुमार को अपनी फिल्म फूल और पत्थर के लिए अप्रोच किया। राजेंद्र कुमार का स्टारडम उन दिनों पूरे शबाब पर था और उनकी हर फ़िल्में सिल्वर जुबली मना रही थी। जाहिर है हर निर्माता उनके साथ काम करना चाहता था. रल्हन ने उन्हें जब अपनी फिल्म के लिए अप्रोच किया तो अनुभवी कुमार को लगा कि उन्हें इस तरह के रोल शूट नहीं करते। इसलिए उन्होंने धर्मेंद्र के नाम की सिफारिश की. धर्मेंद्र उन दिनों इतने बड़े स्टार नहीं थे इसलिए रल्हन उनके नाम पर राजी नहीं थे। तब राजेंद्र कुमार ने रल्हन को भरोसा दिलाया कि अगर उनकी फिल्म फ्लॉप होती है तो उसकी भरपाई वो अपनी जेब से करेंगे लेकिन उन्हें धर्मेंद्र को अपनी फिल्म में लेना होगा। जब राजेंद्र कुमार इसकी गारंटी ले रहे थे तो इंकार की कोई वजह ही नहीं थी.
आखिरकार रल्हन ने राजेंद्र कुमार की सिफारिश पर धर्मेंद्र को फूल और पत्थर का हीरो बना दिया। जब ये बात धर्मेंद्र को पता चली तो उनकी आँखें भर आई। राजेंद्र कुमार ने उनका हौसला बढ़ाते हुए कहा तुम्हें अभी बहुत आगे जाना है। जमकर मेहनत करो और मेरे भरोसे पर खड़े उतरो. ये तो सब जानते हैं कि फूल और पत्थर उस दौर की सबसे कामयाब फिल्म साबित हुई और धर्मेंद्र बड़े स्टार बन गए। लेकिन वो इसके लिए राजेंद्र कुमार का एहसान कभी नहीं भूले.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here