बॉलीवुड का सुपरहीरो

0
247

कुछ तो ख़ास है ह्रितिक रोशन में जिसकी वजह से वो अपने समकालीन अभिनेताओं में सबसे अलग नज़र आते हैं. बॉलीवुड के हर सितारे की अपनी-अपनी खैसियत है लेकिन ह्रितिक रोशन सभी सितारों की खासियत एक साथ मौजूद है. मसलन वो बॉलीवुड ही नहीं एशिया के हैंडसम सितारों की सूची में उनका नाम शामिल है. शारीरिक गठन के मामले में उनके सामने कम सितारे मुकाबले में नज़र आते हैं. प्रभुदेवा के बाद ह्रितिक बॉलीवुड के बेस्ट डांसर माने जाते हैं. एक्टिंग का लोहा वो जोधा -अकबर जैसी फिल्मों से मनवा ही चुके हैं. बॉक्स ऑफिस की दौड़ में भी वो कई सितारों से आगे हैं. और कृष सीरीज की तीन फिल्मों से वो खुद को सुपरहीरो भी साबित कर चुके हैं. या यूँ कहा जाए कि ह्रितिक रोशन एक कम्प्लीट स्टार मैटेरियल हैं.

10 जनवरी, 1974 को ऋतिक रोशन जन्मे ह्रितिक ने पिता राकेश रोशन के साए में सिनेमा को बचपन से ही करीब से देखा. राकेश रोशन ने अपने बेटे को सिनेमा जगत से दूर रखने की बजाय उन्हें बचपन से ही सिनेमा जगत से रूबरू करवाया. उन्होने ह्रितिक को मात्र 6 साल की उम्र में बतौर बाल कलाकार ह्रितिक को बॉलीवुड में लांच कर दिया.

“आशा”, “आप का दीवाना”, “भगवान दादा” जैसी फिल्मों में ह्रितिक बाल कलाकार के रूप में काम किया. सन 2000 में ऋतिक ने अपने पिता के निर्देशन में बनी फिल्म “कहो ना प्यार है” लीड रोल से बॉलीवुड में प्रवेश किया. पिता और पुत्र की इस जोड़ी ने “कहो ना प्यार है” से बॉलिवुड के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए. फिल्म सुपरहिट साबित हुई. इस फिल्म ने ऋतिक रोशन को रातों-रात सुपर स्टार बना दिया. इस फिल्म ने सर्वाधिक पुरस्कार यानि 102 पुरस्कार जीते जो किसी भी बॉलिवुड फिल्म के लिए एक रिकॉर्ड की बात थी.

कामयाबी यूँ ही नहीं मिलती -ह्रितिक रोशन शायद इस फॉर्मूले को इस कामयाबी के बाद भूल गए जिसका खामियाजा उन्हें जल्द ही उठाना पड़ा. इस फिल्म के बाद उनकी कई फ़िल्में फ्लॉप हो गयी. आप मुझे अच्छे लगने लगे, न तुम जानो ना हम , फिजा, मिशन कश्मीर, यादें जैसी फिल्मों की असफलता ने उन पर फ्लॉप एक्टर का टैग चिपका दिया. इससे पहले की ह्रितिक अन्य स्टारपुत्रों की गुमनाम फेहरिस्त में शामिल हो जाते उनकी मदद को पिता राकेश रोशन आगे आये और साइंस फिक्शन फिल्म कोई मिल गया बनाकर उनकी डूबती कश्ती को जोरदार सहारा दिया. फिल्म जबरदस्त कामयाब रही और इस तरह ह्रितिक की दूसरी पारी का आगाज़ हुआ.

कोई मिल गया है के बाद ऋतिक ने धूम 2, क्रिष, जोधा अकबर, काइट्स और जिंदगी ना मिलेगी दुबारा जैसी फिल्मों में अभिनय किया. हालांकि साल 2010 में रिलीज हुई “गुजारिश” में उनका अभिनय अब तक का सर्वश्रेष्ठ अभिनय था पर भारतीय दर्शकों को यह फिल्म पसंद नहीं आई. इसके बाद आई एक्शन पैक्ड फिल्म “अग्निपथ” की कामयाबी ने गुजारिश की असफलता का दाग धो दिया. फिल्म बैंग-बैंग ने भी उनके कद को काफी ऊँचा कर दिया.

ह्रितिक रोशन अमूमन विवादों से दूर ही रहते हैं. लेकिन काइट्स की को-स्टार बारबरा मोरी की नजदीकी और पत्नी सुजैन खान से उनके तलाक ने उन्हें सुर्ख़ियों में बनाये रखा. निजी जीवन की मुश्किलों से दो-चार होते हुए फिल्मों में नयी-नयी ऊंचाई हासिल करते जाना उन्हें व्यक्तिगत रूप से काफी मेच्योर इंसान साबित करने के लिए काफी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here