पद्मावती अपडेट: फिल्म के विरोध में एक और चेतावनी !

0
139

फिल्म ‘पद्मावती’ (अब पद्मावत) को बोर्ड से रिलीज के लिए भले ही मंजूरी मिल चुकी हो बावजूद इसके विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है. खबर है कि अब विरोधी सरकार को फिल्म पर बैन लगाने के लिए वोट की चोट की चेतावनी दे रहे है. इसके अलावा लंबे समय से विरोध की अग्रणी करणी सेना दल के नेता के पद्मावती के विरोध में 27 जनवरी को चित्तौड़गढ़ किले पर देशभर से लोगों को इकठ्ठा कर विरोध प्रदर्शन करेंगे. करणी सेना के अध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना ने कहा कि सरकार को फिल्म पर बैन लगाना ही पड़ेगा. अगर हमारी मांगें नहीं मानी गईं तो वोट की चोट करेंगे.

बता दें कि पिछले दिनों सेंसर बोर्ड ने एक कमेटी से फिल्म का रिव्यू कराने के बाद 5 बदलावों के साथ इसकी रिलीज पर सहमति जताई थी, लेकिन पूर्व राजघरानों और राजपूत समाज के लोगों ने बोर्ड के फैसले का विरोध किया. फिल्म को गत वर्ष 1 दिसंबर 2017 को रिलीज किया जाना था लेकिन विवादों में आने के चलते इसे टाल दिया गया था.

पिछले दिनों सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (CBFC- सेंसर बोर्ड) ने पद्मावती का नाम पद्मावत करने और 5 बदलावों के साथ फिल्म को U/A सर्टिफिकेट दिया. लेकिन राजस्थान के राजघराने और राजपूत संगठन अभी भी सर्टिफिकेट दिए जाने को लेकर खुश नहीं हैं.

किन 5 बदलावों के साथ फिल्म को रिलीज की मंजूरी मिली
1. फिल्म का नाम पद्मावती से पद्मावत करना होगा. भंसाली ने कमेटी से कहा था कि फिल्म मुहम्मद जायसी के पद्मावत पर आधारित है.
2. किरदारों की गरिमा के मुताबिक घूमर डांस में सुधार करना होगा. विरोध करने वालों का कहना है कि राजपूत राजघरानों में रानियां घूमर नहीं करती थीं.
3. डिस्क्लेमर देना होगा कि यह सती प्रथा काे महिमामंडित नहीं करती है. विरोध कर रहे संगठन फैक्ट्स से छेड़छाड़ का आरोप लगा रहे हैं.
4. फिल्म काल्पनिक होने का डिस्क्लेमर देना होगा. 28 नवंबर को अाखिरी बार अप्लाई करने के दौरान फिल्म की कॉपी में डिस्क्लेमर नहीं दिया गया था.
5. ऐतिहासिक जगहों के गलत या भ्रामक संदर्भों को बदलना होगा.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here