Raj Kiran : बीबी की बेवफाई ने इस स्टार को पागलखाने पहुंचा दिया

0
104
फिल्मों की दुनिया एक मायावी दुनिया है, एक ऐसी दुनिया जहां उगते सूरज को सभी सलाम करते हैं और ढलते सूरज को कोई देखता तक नहीं. ऐसा ही एक सूरज था जो 70 के दशक में खूब चमका और हिंदी सिनेमा के पटल पर छा गया, लेकिन आज कहां है किसी को खबर तक नहीं. यहां बात हो रही है एक्टर राज किरण की जिन्होंने ‘प्यार का मंदिर’, ‘प्यार का देवता’, ‘अर्थ’ जैसी कई यादगार फिल्में दीं. आख़िरी बार राज किरण साल 1997 में फिल्म ‘अग्निचक्र’ में नजर आए थे. आज राज किरण किस कदर गुमनामी के अंधेरे में खो गए हैं इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि किसी को आज इनकी कोई खबर नहीं है. यहां तक कि एक वक्त पर लोगों ने उन्हें मरा हुआ ही समझ लिया था.

हालांकि कुछ साल पहले ऋषि कपूर ने राज किरण को अटलांटा के एक पागलखाने में देखा था जहां उनका इलाज चल रहा था. राज किरण की ऐसी हालत के बारे में जानकर सभी का दिल दहल गया. जो एक्टर कभी तारे की तरह फिल्मी परदे पर चमक रहा था आज वो पागलखाने में जिंदगी और मौत से लड़ रहा है. लेकिन इससे भी बड़ी दुख की बात तो ये है कि राज किरण के फिल्मों से चले जाने के बाद किसी ने भी उनकी सुध नहीं ली. राज किरण के कुछ ऐसे दोस्त थे जो उनको ढूंढने की कोशिशों में लगे रहे, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी. वो बड़ा स्टार अब पागल हो चुका था. उसे उसकी जिंदगी की परेशानियों ने ऐसा जकड़ा कि उबर ही नहीं पाया. कहा जाता है कि राज किरन को उनकी पत्नी और बेटे ने धोखा दिया और ये गम वो बर्दाश्त नहीं कर पाए, जिससे वो डिप्रेशन में चले गए.

हालात दिन-ब-दिन बिगड़ते रहे और राज किरन पागलों जैसे हो गए. राज किरण के इलाज में काफी पैसा लग रहा था, लेकिन कमाई का जरिया भी कोई नहीं था और घरवालों ने साथ देने के बजाय राज किरण को अकेले छोड़ देना ही बेहतर समझा. साल 2011 में ऋषि कपूर के जरिए पता चला कि राज किरण एक दशक से पागलखाने में हैं. लेकिन अब राज किरण इस दुनिया में हैं भी या नहीं, इस बारे में कोई जानकारी नहीं है. बेहद दुख की बात है कि 70 और 80 के दशक के इस सुपरस्टार को ऐसे भुला दिया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here